Saturday, January 02, 2010

Don’t Trust Everyone…

विश्वास... एक मानवीय गुण... हर व्यक्ति में होता है। किसी में कम, किसी में ज्यादा... लेकिन होता जरूर है। सच कहें तो बिना विश्वास के उत्तरजीविता नामुमकिन है। इसे संपूर्ण सृष्टि की धुरी माना जा सकता है। लेकिन, जैसा कि कहा जाता है कि किसी भी गुण की अधिकता या न्यूनता हानिकारक होती है। इसलिए एक निश्चित अनुपात में अगर यह हमारे गुणों में प्रभावी रहे तो... :) खैर..., अब अगर किसी का विश्वास इस कदर टूटे जैसे कि आगरा से बृज खंडेलवाल की भेजी इस कहानी में... तब...! पढ़िए और मजा लीजिए... शुभकामनाएं...
--धर्मेंद्र कुमार
A burglar decided to rob the safe in a store.

On the safe door he was very pleased to find a note reading: "Please don't use dynamite. The safe is not locked. Just turn the knob."

He did so. Instantly a heavy sandbag fell on him, the entire premises were floodlighted, and alarms started clanging.

As the police carried him out on a stretcher, he was heard moaning: "My confidence in human nature has been rudely shaken."


Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

New Arrivals at Mediabharti Pawn Shop

All Rights Reserved With Mediabharti Web Solutions. Powered by Blogger.