Saturday, February 27, 2010

Why Singh Is King?

गाहे-बगाहे धर्म को लेकर चर्चाएं सुनाई पड़ती रहती हैं। अक्सर लोग धर्म और कर्मकांडों को लेकर भ्रम में रहते हैं।

धर्म का पालन करने में कोई बुराई नहीं है बल्कि यह अनिवार्य है लेकिन परेशानी कर्मकांडों और धर्म की आड़ में अपने को श्रेष्ठ साबित करने को लेकर है। निजी स्वार्थों की ही वजह है धर्म निरपेक्षता और धर्मांतरण जैसे मुद्दों पर बहसबाजी। जब सभी धर्मों का सार पूरी तरह एक ही है तब क्यों धर्मांतरण और क्यों धर्म निरपेक्षता की जरूरत...।

पिछले साल एनडीटीवीखबर.कॉम पर हम लोगों ने एक सर्वेक्षण किया था जिसमें करीब 70 फीसदी पाठकों का मानना था कि धर्म को लेकर ज्यादा संवेदनशील होने की जरूरत नहीं है। यहां तक कि असली धर्म निरपेक्षता वही है जिसमें धर्म की बात नहीं है।

मतभेद तब उभरते हैं जब एक धर्म विशेष के लोग दूसरे धर्म के लोगों को अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करने की कोशिश कर उस धर्म को अपनाने को उकसाते हैं या किसी राजनीतिक और सामाजिक बहाने से अपने लिए प्राथमिकताएं तय कराने की कोशिश करते हैं।

लेकिन, क्या धर्मांतरण या किसी और तरीके से वास्तव में कुछ हासिल होता है... आगरा से बृज खंडेलवाल द्वारा भेजी गई इस कहानी से शायद बिल्कुल स्पष्ट हो सकता है... पढ़िए और बस मुस्कराकर अपनी परेशानियों से जूझते रहिए... :)

शुभकामनाएं

---धर्मेंद्र कुमार

Each Friday night after work, Mr. Singh would fire up his outdoor grill and cook a Tandoori chicken and some Meat Kebabs. But, all of his neighbors were strict Catholics... and since it was Lent, they were forbidden from eating chicken and meat on a Friday.

The delicious aroma from the grilled meats was causing such a problem for the Catholic faithful that they finally talked to their Priest. The Priest came to visit Mr. Singh and suggested that he become a Catholic. After several classes and much study, Mr. Singh attended Mass... and as the priest sprinkled holy water over him, he said, “You were born a Sikh, and raised a Sikh, but now, you are a Catholic..."

Mr. Singh’s neighbors were greatly relieved, until Friday night arrived. The wonderful aroma of Tandoori chicken and Meat Kebabs filled the neighborhood. The Priest was called immediately by the neighbors and, as he rushed into Mr. Singh's backyard, clutching a rosary and prepared to scold him, he stopped and watched in amazement.

There stood Mr. Singh, holding a small bottle of holy water which he carefully sprinkled over the grilling meats and chanted: "Oye, you were born a chicken, and you were born a lamb, you were raised a chicken and you were raised a lamb but now you are a potato and tomato."
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

New Arrivals at Mediabharti Pawn Shop

All Rights Reserved With Mediabharti Web Solutions. Powered by Blogger.